Followers

Wednesday, October 20, 2010

कोई तो होता

कोई तो होता
जिसे अपने पैरों के छाले
मैं दिखा पाती और
जो महसूस कर पाता कि
कितने दिनों से अंगारों पर
मैं अकेली चली जा रही हूँ,
वो आगे बढ़ कर मुझे सहारा देकर
इन अंगारों से बाहर खींच लेता
और मेरे जलते पैरों पर
प्यार की बर्फ फेर कर
उन्हें शीतल कर देता !

कोई तो होता
जिससे मैं अपने मन की
हर बात कह पाती
और वह अपनी ओर से
कुछ भी जोड़े घटाए बिना
सिर्फ मुझे बोलने देता
और मैं अपना सारा गुबार
उसके सामने बाहर निकाल कर
बिलकुल रिक्त हो जाती !

कोई तो होता
जो मेरे दग्ध ह्रदय की
हर बात बिन बोले ही
समझ लेने का माद्दा रखता,
मेरी हर ख्वाहिश को
पूरा करने की चाहत रखता ,
जिसे मेरी बातें सुनना अच्छा लगता,
जिसे मेरे साथ समय बिता कर
मुस्कुराने का मन होता,
जो मन से मेरे साथ की लालसा
अपने ह्रदय में संजो कर रखता !

कोई तो होता
जो मेरे व्यथित ह्रदय की
वेदना की भाषा को समझता
मेरे मस्तक पर प्यार से हाथ फेर
मुझे आश्वस्त कर देता,
और मेरी आँखों से बहती
अविरल अश्रुधारा को
अपनी उँगलियों से पोंछ
मेरे मन को पीड़ा के भार से
हल्का कर देता !

कितना प्राणान्तक है
यह ख़याल कि
किसी को मेरी चाहत नहीं,
किसीको मेरी ज़रूरत नहीं,
किसीको मेरे होने ना होने से
कोई फर्क नहीं पड़ता,
मैं बस व्यर्थ में जिए जा रही हूँ
बेवजह, बेज़रूरत,
बेआस, बेआवाज़
सिर्फ इसलिए कि
साँसों के विस्तार पर
अपना कोई वश नहीं है !

कोई तो होता
जो सिर्फ एक बार कह देता
ऐसा तो बिलकुल नहीं है
मेरे लिये तुम
बहुत कीमती हो
और मुझे तुम्हारी
बहुत ज़रूरत है !

साधना वैद