Followers

Wednesday, April 2, 2014

हौसला




चाहे जितना आजमा लो तुम हमें
हर कसौटी पर खरे उतरेंगे हम !

चाहे जितनी आँधियाँ चलने लगें
दीप की लौ को प्रखर रखेंगे हम !

चाहे जितने जाल फैला ले जहाँ
दूर सूरज चाँद तक पहुँचेंगे हम !

हारना सीखा नहीं हमने कभी
जीत को मुट्ठी में बंद कर लेंगे हम !

मुँह छिपा कर बैठना फितरत नहीं
तान कर सीना चला करते हैं हम !

दुश्मनों की बद्दुआ का डर नहीं
दोस्तों के प्यार को तकते हैं हम !

बाजुओं में आसमाँ दिल में ज़मीं
हौसले फौलाद से रखते हैं हम !

लाख बाधा सामने कर दो खड़ी
हर चुनौती पर खरे उतरेंगे हम !

साधना वैद