Followers

Wednesday, June 10, 2015

सुरमई उजाला


 

साँझ की बेला
शांत स्थिर झील का जल
धरा पर उतरने को आतुर
तिमिर के धुंधले से साये
आसमान में छाईं
अस्तप्राय सूर्य की सुनहरी रश्मियाँ
झील के दर्पण में प्रतिबिंबित
रक्तिम आसमान का मनोहारी दृश्य  
और विस्मत विमुग्ध एक मैं
शायर की नज़्म में
शायद यही 
सुरमई उजाला  
और चम्पई अँधेरा है !

साधना वैद