Followers

Sunday, June 5, 2016

कटा पेड़


पर्यावरण दिवस पर विशेष


 पेड़ है कटा
अतिक्रमण हटा
बेघर पंछी !

क्रूर मानव
हृदयहीन सोच
पंछी हैरान !

व्यर्थ हो गयी
लंबी संघर्ष यात्रा
एक पल में !

क्या मिला तुझे
उजाड़ मेरा घर
स्वार्थी इंसान !

शिखर पर
संवेदनहीनता
मौन ईश्वर !

पीर हमारी
किसीने कब जानी
हैं क्षुद्र प्राणी !

कैसे बसाऊँ
फिर अपना घर
थके पंखों से ! 

करता कोई 
खामियाजा लेकिन 
भरता कोई ! 

क्यों काटे पेड़
हुई वायु अशुद्ध
पंछी बेघर !

पेड़ केवल
देना ही जानते हैं
लेते कहाँ हैं ! 


साधना वैद